आप यहां है : Skip Navigation LinksWelcome > फेक्ट होम पेज (हिंदी) > > >
 
अनुसंधान एवं विकास (अ एवं वि)

संगठन में नए उर्वरक बनाने के लिए गहराई अनुसंधान करने तथा प्रचलित उत्पाद श्रेणियों का मूल्य परिवर्धन करने के लक्ष्य के साथ अनुसंधान एवं विकास केन्द्र कार्यरत है। 2008-09 वर्ष के दौरान अनुसंधान एवं विकास ने नीचे दिए गए विशिष्त अध्ययन तथा सेवाएँ कार्यान्वित किए हैं।

ज़िंक फोर्टिफाइड फेक्टमफोस 20:20:0:13 को रंग देने के लिए डाई विकसित करना।

एफ ए सी टी फेक्टमफोस का उत्पादन कर रहा है जो दक्षिण भारत में चालू तथा अत्यावश्यक उत्पाद है। एफ ए सी टी 0.3% ज़िंक के साथ ज़िंकेटड फेक्टमफोस का उत्पादन भी प्रारंभ किया है जो प्रत्यक्ष में कणिका आकार फेक्टमफोस के समनुरूप है। इन दो उत्पादों को यथाक्रम पहचानने के लिए ज़िंकेटड फेक्टमफोस को रंग देने का निर्णय लिया है। अनुसंधान एवं विकास ने एक पर्र्यवरण-अनुकूल डाई आधारित कार्बन ब्लाक विकसित किया है जो इस उद्देश्य के लिए आजकल नियोजित करनेवाले सिंतेटिक डाईस की कीमत के स्तर से तुलन करेगा तो बहुत सस्ता है।

स्टैक पर एन पी के मिश्रण के विविध क्रमों के बीच केक निर्माण प्रभाव अध्ययन:

फिल्लर्स के रूप में फोस्फो जिप्सम तथा डोलोमाइट प्रयोग करके 10:10:10, 10:5:20 तथा 10:10:5 जैसे तीन विभिन्न क्रम में एन पी के मिश्रण से केके बनाने की समस्या से जोडकर अध्ययन कार्यान्वित किया था। 10-20% की रेंज में परिवर्ती नमी धारिता के साथ परिवर्ती न्यूट्रिएन्ट अंशों के द्वारा 16 सम्मिश्रणों में प्रयोग किया था। उपर्युक्त फिल्लर्स के साथ फेक्टमफोस, रॉक फोस्फेट, यूरिया, अमोनियम सल्फेट तथा एम ओ पी से 16 सम्मिश्रण उत्पादित किए थे। अध्ययन रिपोर्ट प्रस्तुत किया जाता है।

लेंप निर्माण के समय में मिश्रणों की देख-रेख करने के लिए मिश्रणों की बिक्री को सख्त रूप से प्रभावित करते हैं। मिश्रणों के विभिन्न पैरामीटरों के अंतरिम रिपोर्ट विपण विभाग में प्रस्तुत किया गया है। ग्रेडों के निर्माण के लिए प्रयोग किए गए निविष्टि माल की उपयुक्तता निर्धारित की जा रही है। निविष्टि माल स्थाई करने के बीच में मृदा की प्रकृति, संवर्धन का वर्गीकरण, मालों की कीमत,  उपभोग का पैटर्न का भी ध्यान दिया था।

दृढ फोस्फोरिक एसिड तथा 40% ओ ए एस द्रव प्रयोग करके ट्रयल रन:

गुणता की क्षमता मूल्यांकन करने के लिए यह आयोजित किया है। अनुसंधान एवं विकास में वैज्ञानिक कर्मचारी क्रमावर्ती आधार पर कार्य कर रहे हैं तथा निदेशक (तकनीकी) को रिपोर्ट प्रस्तुत की जाती है। विपणन के लिए उत्पाद प्रेषण करने के पहले ही गुणता सुनिश्चित करना भी कंपनी की वचनबद्धता का एक भाग है।

जीवउर्वरक उत्पादन: अनुसंधान एवं विकास अपने 150 टी पी डी संयंत्र से रिज़ोबियम, अज़ोस्पिरिल्लम तथा फोस्फोबाक्टर (बेसिलस मगतेरियम) जैसे जीव उर्वरकों का उत्पादन करता है, जो भारत सरका, कृषि मंत्रालय से एक सहायता अनुदान की आंशिक सहायता के साथ स्थापित किया जाता है। उर्वरक (नियंत्रण) आदेश 1985 की जून 2006 की संशोधित विवरण में पहली बार जीव उर्वरक गुणता की अपेक्षा विनिर्दिष्ट किया है। 2009-10 वर्ष के दौरान अनुसंधान एवं विकास ने 83.0 मी ट जीव उर्वरक का उत्पादन किया है।